Pyar Ka dusaman | A True love Story In Hindi




यह कहानी शुरू होती है जब मैं बस से  पटना जा रहा था |. मैं बस में बैठा हुआ था ,और मैं यह सोच रहा था  कि कोई मेरे पास भी आके कोई बैठे क्यों कि मैं उससे बाते करू और रास्ता कट जाये क्यों कि  रत का समय था  मुझे रत में सफर करना ज्यादा अच्छा लगता हैं इसका कारन यह था कि बगहा से पटना करीब  7 घंटे का  रास्ता  हैं जो रत के वक्त ही सफर करने में आसानी  जाती हैं | मैं अपनी सीट पर बैठा हुआ था यह सोच रहा था कि कोई लड़की मेरे पास के बैठे जिससे मैं बाते करू ,और क्या था मेरे पास एक सुन्दर सी लड़की मेरे पास कर बैठ गई | वह मेरे से 5-6  साल बड़ी थी | मैं उनहे दीदी कहने लगा और वह  भी मुझे मेरे नाम से पुकारने लगी | बातो-बातो में मुझे यह पता चला कि वह किसी से प्यार करती हैं मैंने पूछा कि दीदी आप के चेहरे में यह क्या हुआ हैं , वह हमें बताई  कि एक समय था मैं किसी से प्यार करतीथी 




और एक और लड़का था जो मुझसे प्यार करता था लेकिन मैं उस लड़के को प्यार नहीं करती थी क्यों कि मेरे दिल में कोई और बसा था उस लड़के ने मेरे चेहरे में तेजाब दाल दिया जिसके कारन मेरा यह हल हो गया | मैंने उनसे पूछा कि जिससे आप प्यार करती हैं अब वह आप के साथ तो हैं उनहोने हमें मुसकुराते हुए जवाब दिया हा जिससे मैं प्यार करती हु वह मेरे हर कदम पर साथ देते हैं क्यों कि भगवान किसी के साथ नाइंसाफी नहीं करते बातें करते करते करीबन रत के १२ बज चुके थे | समय का पता ही नहीं चल रहा था क्यों कि उनकी प्यार कि कहानी निस्वार्थ थी | मैं मन ही मन यह  सोचता   रहा था कि प्यार करो सच्चे  दिल से तो खुदा भी मान  जाते हैं लेकिन खुदा ने उनके साथ यह  अच्छा नहीं किया  मैंने उनसे पूछा कि वह आप को कितना प्यार करते हैं उनहोने हमें यह बताया कि अपने जान से भी ज्यादा



मैंने उनसे फिर पूछा कि आप को किसी बात को लेकर किसी से शिकायत नहीं हैं तो यह बात सुनकर उनकी आखो में नमी गई एक दर्द उनकी आखो में छलकने लगा और उस दर्द को छुपाने के लिए उनके चेहरे में मुस्कान थी |वह हमें बोली हमें किसी चीज कि सकायत नहीं हैं लेकिन जो मेरे साथ हुआ ओह किसी के साथ ना हो बस मैं परमेश्वर से यही से दुआ करती हूँ |दिल कि बात वह क्या जाने जो सूरत से प्यार करते हैं किसी के दिल से प्यार कर के देखो प्यार का असली अर्थ पता चलेगा कि प्यार क्या हैं ? प्यार में इतनी ताकत क्यों हैं | मैं मन ही मन में सोचा कि जो दीदी के साथ हुआ वह आखिर क्यों हुआ क्या गलती थी उनकी वह इस बात कि सजा उनहे मिल रही हैं अब तक जो उनहो ने कभी किया ही नहीं |


अगर आप किसी से प्यार करते हैं तो आप अपनी खुसी नहीं उनकी खुसी देखिये कि वह खुश किस बात को लेकर हैं |

2 comments: